Tagged: dadari masscare

दादरी की पीड़ा और हमारी इंसानियत!

प्रभुनाथ शुक्ल (लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं) धर्म और उसकी धारणा में हम अंतर आज तक नहीं कर पाए हैं। धर्म क्या किसी इंसानियत, मानवीयता और सहिष्णुता से अलग कोई परिभाषा गढ़ता है? सवाल उठता...