Tagged: dhamtari village

104 साल की बुढ़ीया ने बदल दी पूरे गांव की तकदीर

‘कौन कहता है आसमान में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों..’ और सचमुच तबियत से उछाले गए गांव की गलियों के हर पत्थर ने सुविधाओं के विस्तृत आसमान को...