Tagged: Diwali Sms

Happy Diwali: खिड़कियों से झांकती है रौशनी बत्तियाँ जलती हैं घर घर रात में

खिड़कियों से झाँकती है रौशनी बत्तियाँ जलती हैं घर घर रात में सभी के दीप सुंदर हैं हमारे क्या तुम्हारे क्या उजाला हर तरफ़ है इस किनारे उस किनारे क्या था इंतिज़ार मनाएँगे मिल के दीवाली न तुम ही लौट के आए न वक़्त-ए-शाम हुआ मिट्टी का दिया झुटपुटे के वक़्त घर से एक मिट्टी का दिया एक बुढ़िया ने सर-ए-रह ला के रौशन कर दिया ताकि रह-गीर और परदेसी कहीं ठोकर न...