Tagged: Eidgah

eidgah

ईद के मौके पर पेश है प्रेमचंद रचित ‘ईदगाह’

रमजान के पूरे तीस रोजों के बाद ईद आयी है। कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभाव है। वृक्षों पर अजीब हरियाली है, खेतों में कुछ अजीब रौनक है, आसमान पर कुछ अजीब लालिमा है। आज...